Dialogue - Hindi

Hide

Vocabulary

Hide
रंग raNg color, complexion
चावल caavaL rice
गुड़ gud jaggery, molasses
गन्ना gannaa sugarcane
केला kelaa banana
सींग seeng horn
घंटी ghantee bell
कीमती keematee expensive, rich, worthy
पत्थर patthar stone, concrete, hail

Lesson Notes

Hide

Cultural Insights

तमिल नाडू में पोंगल


पोंगल उत्सव के पीछे कुछ रोमांचक कथा है। पोंगल को तीसरे दिन के अनुसार मनाया जाता है क्योंकि भगवान शिव ने एक बार उनकी बैल नंदी से कहा कि पृथ्वी के पास जाकर लोगों को उनका संदेश पहुचा दो  - हर दिन तेल स्नान करो और महीने मे एक बार खाना खाओ। लेकिन नंदी ने सब गड़बड़ कर दी और लोगो को उल्टा संदेश दे दिया की महीने मे एक बार तेल स्नान करो और रोज़ खाना खाओ। शिव भगवान नाराज हो गये और नंदी को कहा कि अब लोगों को और अधिक अनाज की आवश्यकता होगी, नंदी को पृथ्वी पर रहना होगा और खेतो मे हल चलाने मे उनकी मदद करनी होगी।


Pongal in Tamil Nadu


There are interesting legends behind the Pongal celebrations. Pongal is celebrated because Lord Shiva once asked Nandi, his bull, to go to earth and deliver his message to the people: to have an oil bath every day and food once a month. But Nandi messed it up and gave the opposite message, telling the people that Shiva asked them to have an oil bath once a month and eat every day. Shiva was annoyed and told Nandi that since the people would now need to grow more grain, Nandi would have to remain on earth and help them plough the fields.

Lesson Transcript

Hide
तमिल नाडु
तमिलनाडु राज्य भारत के सुदूर दक्षिण में स्थित है। यह अपने मनोरम नैसर्गिक सुंदरता और त्यौहारों के लिए प्रसिद्ध है|
तमिलनाडु के त्यौहार आम तौर पर क्रषि कार्यो पर आधारित है| यह ग्रहों व तारों की स्थिति के अनुसार मनाए जाते है। जनवरी माह में मनाया जाने वाला पोंगल तमिलनाडु के सबसे महत्वपूर्ण त्योहारों में से एक है| इस दिन लोग नये साल का आरंभ रंग और उमंग के साथ करते है। चार दिन के अन्तराल मनाए जाने वाला यह पर्व फसल के काटे जाने पर मनाया जाता है।
त्यौहारों के साथ साथ यहाँ का नैसर्गिक सौंदर्य भी दर्शनीय है| कन्याकुमारी , जो तमिलनाडू के दक्षिण तट में स्थित है, अपने विवेकानंद शिला और गाँधी मंडप के लिए मशहूर है| यहाँ पर अरब सागर, बंगाल की खाड़ी और हिंद महासागर के संगम से तीन रंग का पानी एक ही जगह दिखाई देता है। हिंदुओं के चार पवित्र धामो में से एक रामेंश्वरम् भी यहीं कन्याकुमारी से थोड़ी ही दूर पर है। ऐसा कहा जाता है कि भगवान राम ने नल और नील की सहायता से यही से लंका तक पत्थरों की सेतु का निर्माण किया था| उसी सेतु के अंश आज भी यहाँ पानी में तैरते हुए दिखाई देते है|
कोडाइकनाल, कूनोर, ऊटी, येलागिरी यहाँ के कई सुंदर पर्यटक स्थलों में से है| निलगिरी, पलानी, कोल्ली पर्वत घने जंगलों और वन्य जीवन से प्रचुर हैं| चेन्नई का मरीना बीच विश्व के सब से लंबे समुद्र तटों में से एक है|
तमिल नाडु केवल अपने सौंदर्य के लिए ही नहीं बल्कि अपने विविध स्वादिष्ट पकवानों के लिए भी मशहूर है| रसम-चावल, अवियल, पोरियल, अप्पलम, सम्बार-चावल यहाँ के कई विशिष्ट खाद्य पधार्थों में से है जो केले के पत्तियों पर परोसे जाते है| यहाँ का हलवा और पंचामिर्थम हर एक को पसंद आता है|