Vocabulary

Learn New Words FAST with this Lesson’s Vocab Review List

Get this lesson’s key vocab, their translations and pronunciations. Sign up for your Free Lifetime Account Now and get 7 Days of Premium Access including this feature.

Or sign up using Facebook
Already a Member?

Lesson Notes

Unlock In-Depth Explanations & Exclusive Takeaways with Printable Lesson Notes

Unlock Lesson Notes and Transcripts for every single lesson. Sign Up for a Free Lifetime Account and Get 7 Days of Premium Access.

Or sign up using Facebook
Already a Member?

Lesson Transcript

आवारा
1951 में रिलीज़ हुई फिल्म आवारा जटिल कथानक व कहानी के कठिन मोड़ों वाली एक मर्मस्पशी कहानी थी और यह फिल्म विश्व भर में अत्यंत सफल रही| लोकप्रिय युगल राजकपूर व नर्गिस अभिनीत इस फिल्म ने रूस व चीन में आशातीत सफलता पाई और टर्की में तो इसका स्थानीय रूपांतर तक बनाया गया ! इसे कान फिल्मोत्सव 1953 में ग्रांड पुरस्कार के लिए नामित किया गया परंतु वहाँ यह हेनरी – जेओर्जेस क्लूजों की फ्रेंच थ्रिलर ‘द वेजिस आफ फियर’से परास्त हो गई|
आवारा में समाज के विभिन्न वर्गों के बीच खाई को नर्गिस के किरदार रीटा व राज कपूर के किरदार राज के संबंधों के माध्यम से दिखाया गया है| राज के पिता एक धनाढ्य जज थे, परंतु जब उसकी माँ गर्भवती हुई तो उसके पिता ने चरित्रहीनता का आरोप लगाते हुए उन्हें घर से निकाल दिया| राज का पालन पोषण असीम दरिद्रता में हुआ, अतः वह बड़ा हो कर एक चोर व बदमाश बना| उसकी मुलाक़ात रीटा से स्कूल में ही हो गई थी परंतु गरीबी के कारण काम में माँ का हाथ बंटाने के लिए उसे स्कूल छोड़ना पड़ा| दोनों अलग हो जाते हैं| पुनः दोनों सालों बाद मिलते हैं जब राज एक आवारा बन चुका है| जब उसे अपने पिता के द्वारा किए गए अन्याय व अपनी असली पहचान के बारे में पता चलता है तो वह क्रोध में किसी का कत्ल कर बैठता है| उसका केस उसी के पिता की कोर्ट में आता है, और उसकी प्रेमिका रीटा उसका बचाव करती है|
इस फिल्म का संगीत शंकर जयकिशन ने तैयार किया और मुकेश द्वारा गाया इसका एक गीत ‘आवारा हूँ’ अत्यंत लोकप्रिय हुआ| यहाँ तक कि देश के बाहर चीन व रोमानिया में भी इसके चाहने वाले थे| पर्दे पर नर्गिस व राज के बीच की महान केमिस्ट्री (युगलबंदी), व सामाजिक वर्गीकरण एवं अनुक्रम पर उठाए गए वैध सवालों की वजह से आवारा एक चिरस्थायी व विचारोत्तेजक सिने-कृति बन गई है|

1 Comment

Hide
Please to leave a comment.
😄 😞 😳 😁 😒 😎 😠 😆 😅 😜 😉 😭 😇 😴 😮 😈 ❤️️ 👍
Sorry, please keep your comment under 800 characters. Got a complicated question? Try asking your teacher using My Teacher Messenger.

HindiPod101.com
Thursday at 6:30 pm
Your comment is awaiting moderation.

आवारा

1951 में रिलीज़ हुई फिल्म आवारा जटिल कथानक व कहानी के कठिन मोड़ों वाली एक मर्मस्पशी कहानी थी और यह फिल्म विश्व भर में अत्यंत सफल रही| लोकप्रिय युगल राजकपूर व नर्गिस अभिनीत इस फिल्म ने रूस व चीन में आशातीत सफलता पाई और टर्की में तो इसका स्थानीय रूपांतर तक बनाया गया ! इसे कान फिल्मोत्सव 1953 में ग्रांड पुरस्कार के लिए नामित किया गया परंतु वहाँ यह हेनरी – जेओर्जेस क्लूजों की फ्रेंच थ्रिलर ‘द वेजिस आफ फियर’से परास्त हो गई|

आवारा में समाज के विभिन्न वर्गों के बीच खाई को नर्गिस के किरदार रीटा व राज कपूर के किरदार राज के संबंधों के माध्यम से दिखाया गया है| राज के पिता एक धनाढ्य जज थे, परंतु जब उसकी माँ गर्भवती हुई तो उसके पिता ने चरित्रहीनता का आरोप लगाते हुए उन्हें घर से निकाल दिया| राज का पालन पोषण असीम दरिद्रता में हुआ, अतः वह बड़ा हो कर एक चोर व बदमाश बना| उसकी मुलाक़ात रीटा से स्कूल में ही हो गई थी परंतु गरीबी के कारण काम में माँ का हाथ बंटाने के लिए उसे स्कूल छोड़ना पड़ा| दोनों अलग हो जाते हैं| पुनः दोनों सालों बाद मिलते हैं जब राज एक आवारा बन चुका है| जब उसे अपने पिता के द्वारा किए गए अन्याय व अपनी असली पहचान के बारे में पता चलता है तो वह क्रोध में किसी का कत्ल कर बैठता है| उसका केस उसी के पिता की कोर्ट में आता है, और उसकी प्रेमिका रीटा उसका बचाव करती है|

इस फिल्म का संगीत शंकर जयकिशन ने तैयार किया और मुकेश द्वारा गाया इसका एक गीत ‘आवारा हूँ’ अत्यंत लोकप्रिय हुआ| यहाँ तक कि देश के बाहर चीन व रोमानिया में भी इसके चाहने वाले थे| पर्दे पर नर्गिस व राज के बीच की महान केमिस्ट्री (युगलबंदी), व सामाजिक वर्गीकरण एवं अनुक्रम पर उठाए गए वैध सवालों की वजह से आवारा एक चिरस्थायी व विचारोत्तेजक सिने-कृति बन गई है|