Dialogue

Vocabulary

Learn New Words FAST with this Lesson’s Vocab Review List

Get this lesson’s key vocab, their translations and pronunciations. Sign up for your Free Lifetime Account Now and get 7 Days of Premium Access including this feature.

Or sign up using Facebook
Already a Member?

Lesson Notes

Unlock In-Depth Explanations & Exclusive Takeaways with Printable Lesson Notes

Unlock Lesson Notes and Transcripts for every single lesson. Sign Up for a Free Lifetime Account and Get 7 Days of Premium Access.

Or sign up using Facebook
Already a Member?

Lesson Transcript

मुगल– ए–आज़म
बॉलीवुड की अपने समय की सबसे महंगी फिल्म, मुगल–ए–आज़म हमारे फिल्म इतिहास की एक उत्कृष्ट कृति है| 1960 में रिलीज़ हुई इस फिल्म ने सारे बॉक्स-ऑफिस रिकार्ड तोड़ डाले और कमाई की दृष्टि से अगले 15 सालों तक सर्वाधिक सफल रही| 1975 में आई हिट फिल्म शोले के बाद ही इस फिल्म लोकप्रियता का रिकार्ड टूट पाया !
मुगल सम्राट जहांगीर की प्रसिद्ध जीवन गाथा पर आधारित मुगल-ए-आज़म को के. आसिफ ने निर्मित एवं निर्देशित किया, व इसमें सम्राट अकबर की भूमिका में रहे महान कलाकार पृथ्वी राज कपूर| प्रेम पाश में बंधे अनारकली व शहजादा सलीम के किरदार क्रमश—मधुबाला व दिलीप कुमार ने निभाए| अपने यौवन के दिनों में शहज़ादा सलीम के नाम से जाने जानेवाले सम्राट जहांगीर उन दिनों खासे जिद्दी व बिगड़े शहजादे हुआ करते थे, और राज दरबार की एक नृत्यांगना अनारकली को दिल हार बैठे थे|
जब दोनों के प्रेम संबंध की खबर पिता सम्राट अकबर के कानों तक पहुँचती है तो सलीम अपने पिता को अपने प्रेम की सच्चाई के विषय में समझाने का प्रयास करता है व अनारकली से विवाह करने की अपनी इच्छा से अवगत कराता है| सम्राट अकबर एक संदिग्ध चरित्र व छोटे तबके की महिला को अगली महारानी के रूप में देखने को कतई सहमत नहीं होते| वे अनारकली को बंदी बना लेते हैं, और उसे सलीम को स्वयं से दूर करने का आदेश सुनाते हैं| परंतु अनारकली इस प्रसिद्ध गीत ‘प्यार किया तो डरना क्या’ के माध्यम से उनका आदेश अस्वीकार कर देती है| सलीम अपने ही पिता के विरुद्ध युद्ध छेड़ देता है, और फिल्म कई मर्मस्पर्शी व हृदय विदारक मोड़ों से गुजरती है, व इसका अंत दर्द से भरा होता है| इस फिल्म को राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार व तीन फिल्म फेयर पुरस्कारों से सम्मानित किया गया—सर्वश्रेष्ठ फिल्म, सर्वश्रेष्ठ छायांकन व सर्वश्रेष्ठ संवाद| मूल फिल्म का करीब 15 % भाग छोड़ कर अधिकतर श्वेत-श्याम रूप में फिल्माया गया था| के. आसिफ निर्माताओं को पूरी फिल्म रंगीन करने के लिए नहीं मना पाए थे| 2004 में आखिर उनका यह सपना पूरा हुआ, व यह फिल्म पूर्ण रंगीन में परिवर्तित कर दोबारा रिलीज़ की गई| पुनः यह अत्यंत सफल रही और वीर-जारा जैसी हिट फिल्मों से सामना होने के बावजूद भी 25 हफ्तों तक लगी रही !

3 Comments

Hide
Please to leave a comment.
😄 😞 😳 😁 😒 😎 😠 😆 😅 😜 😉 😭 😇 😴 😮 😈 ❤️️ 👍
Sorry, please keep your comment under 800 characters. Got a complicated question? Try asking your teacher using My Teacher Messenger.
Sorry, please keep your comment under 800 characters.

user profile picture
HindiPod101.com
Thursday at 6:30 pm
Pinned Comment
Your comment is awaiting moderation.

मुगल– ए–आज़म

बॉलीवुड की अपने समय की सबसे महंगी फिल्म, मुगल–ए–आज़म हमारे फिल्म इतिहास की एक उत्कृष्ट कृति है| 1960 में रिलीज़ हुई इस फिल्म ने सारे बॉक्स-ऑफिस रिकार्ड तोड़ डाले और कमाई की दृष्टि से अगले 15 सालों तक सर्वाधिक सफल रही| 1975 में आई हिट फिल्म शोले के बाद ही इस फिल्म लोकप्रियता का रिकार्ड टूट पाया !

मुगल सम्राट जहांगीर की प्रसिद्ध जीवन गाथा पर आधारित मुगल-ए-आज़म को के. आसिफ ने निर्मित एवं निर्दशित किया, व इसमें सम्राट अकबर की भूमिका में रहे महान कलाकार पृथ्वी राज कपूर| प्रेम पाश में बंधे अनारकली व शहजादा सलीम के किरदार क्रमश: मधुबाला व दिलीप कुमार ने निभाए| अपने यौवन के दिनों में शहजादा सलीम के नाम से जाने जानेवाले सम्राट जहांगीर उन दिनों खासे जिद्दी व बिगड़े शहजादे हुआ करते थे, और राज दरबार की एक नृत्यांगना अनारकली को दिल हार बैठे थे|

जब दोनों के प्रेम संबंध की खबर पिता सम्राट अकबर के कानों तक पहुँचती है तो सलीम अपने पिता को अपने प्रेम की सच्चाई के विषय में समझाने का प्रयास करता है व अनारकली से विवाह करने की अपनी इच्छा से अवगत कराता है| सम्राट अकबर एक संदिग्ध चरित्र व छोटे तबके की महिला को अगली महारानी के रूप में देखने को कतई सहमत नहीं होते| वे अनारकली को बंदी बना लेते हैं, और उसे सलीम को स्वयं से दूर करने का आदेश सुनाते हैं| परंतु अनारकली इस प्रसिद्ध गीत ‘प्यार किया तो डरना क्या’ के माध्यम से उनका आदेश अस्वीकार कर देती है| सलीम अपने ही पिता के विरुद्ध युद्ध छेड़ देता है, और फिल्म कई मर्मस्पर्शी व हृदय विदारक मोड़ों से गुजरती है, व इसका अंत दर्द से भरा होता है| इस फिल्म को राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार व तीन फिल्म फेयर पुरस्कारों से सम्मानित किया गया: सर्वश्रेष्ठ फिल्म, सर्वश्रेष्ठ छायांकन व सर्वश्रेष्ठ संवाद| मूल फिल्म का करीब 15 % भाग छोड़ कर अधिकतर श्वेत-श्याम रूप में फिल्माया गया था|  के. आसिफ निर्माताओं को पूरी फिल्म रंगीन करने के लिए नहीं मना पाए थे| 2004 में आखिर उनका यह सपना पूरा हुआ, व यह फिल्म पूर्ण रंगीन में परिवर्तित कर दोबारा रिलीज़ की गई| पुन: यह अत्यंत सफल रही और वीर-जारा जैसी हिट फिल्मों से सामना होने के बावजूद भी 25 हफ्तों तक लगी रही !

user profile picture
HindiPod101.com
Thursday at 6:09 pm
Your comment is awaiting moderation.

Hello Brian Sullivan!


Thank you for posting!

It seems like you really enjoy films! That is great :innocent:


Have a lovely weekend!

Engla

Team HindiPod101.com

user profile picture
Brian Sullivan
Saturday at 7:40 pm
Your comment is awaiting moderation.

Certainly a great film. I bought a copy when I first travelled to India. The regarded historian of all things India William Dalrymple (City of Djinns, White Mughals etc) describes it as his favourite. I can't see where you list he other top 10 but I would add Mother India, and the Guide, all film of the 60s. Perhaps the 1966 Satyajit Ray film Nayak - but its Bengali so perhaps does not count in a Hindi forum. Perhaps I am biases since the lead actress Shamila Tagore was the wife of the last Nawab of Bhopal where I now live. [Kareen Kapoor Khan married her son, but since the 190's there are no longer any official regal titles in India)].



mhere..